04 September 2017

धोनी की ये दरियादिली देख आप भी करेंगे 'कैप्टन कूल' को सैल्यूट

SHARE
कप्तान विराट कोहली (नाबाद 110) के 30वें शतक और भुवनेश्वर कुमार (42-5) के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर भारत ने पांच वनडे मैचों की सीरीज के आखिरी मैच में रविवार को श्रीलंका को छह विकेट से हरा दिया.  इसी के साथ भारत ने श्रीलंका में पहली बार 5-0 से वनडे सीरीज पर कब्जा जमाया है. भारत की विदेशी जमीं पर 5-0 से यह दूसरी जीत है. इससे पहले उसने विराट की कप्तानी में ही 2013 में जिम्बाब्वे को उसी के घर में 5-0 से शिकस्त दी थी. 


मैच और सीरीज पर इस शानदार जीत के साथ टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर कुछ ऐसा किया, जिसने सभी का दिल जीत लिया. धोनी को हमेशा ही बेस्ट गेम फिनीशर माना जाता है. जब मैच को जिताने की जिम्मेदारी धोनी पर आती है तो वे अपने एक अलग ही स्टाइल में खेल को खत्म करते हैं. चौका या छक्का जड़कर धोनी न केवल टीम को जीत दिलाते हैं  बल्कि अपने फैंस का भी दिल खुश कर देते हैं. 


अक्सर धोनी मैच को जीताने के लिए आखिरी गेंद पर चौका या छक्का मारते है जो उनके फैंस के लिए किसी ट्रीट से कम नहीं होता है. ऐसा ही नजारा रविवार को हुए पांचवे वनडे में भी देखने को मिला जहां भारत को जीतने के लिए केवल 2 रन चाहिए थे और धोनी एक छक्का मारकर इस मैच को बहुत ही आसानी से जीत सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. 

धोनी ने एक रन लिया और बल्लेबाजी साइड पर विराट कोहली को खेलने का मौका दिया ताकि वे गेम फिनिशर बन सकें. इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा है. दरअसल, विराट कोहली अपना 30वां वनडे शतक पहले ही पूरा कर चुके थे. विराट ने 115 गेंदों पर 109 रन बना लिए थे लेकिन फिर भी धोनी ने उन्हें गेम फिनीशर बनने का मौका दे डाला. एक रन बनाने के बाद धोनी कोहली की तरफ मुस्कुराए जिसको देखकर कोहली समझ गए कि धोनी ने उन्हें स्ट्राइक पर क्यों भेजा है. इसके बाद विराट ने धोनी से कुछ कहा और हंसने लगे. इसके बाद कोहली ने आखिरी गेंद पर एक रन बनाकर अपनी टीम को जीत दिलाई. 

यह पहली बार नहीं था जब धोनी ने इस प्रकार की दरियादिली मैदान पर दिखाई हो. इससे पहले भी धोनी टीम इंडिया के कई खिलाड़ियों को मौका दे चुके हैं. ऐसा ही कुछ नजारा  श्रीलंका के खिलाफ चौथे वनडे में भी देखने को मिला था. 
इस मैच में भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया, लेकिन भारतीय टीम को फॉर्म में चल रहे शिखर धवन के रूप में पहली झटका केवल पहले ही ओवर में लग गया. इसके बाद कप्तान विराट कोहली बल्लेबाजी के लिए आए. कप्तान विराट कोहली ने रोहित शर्मा के साथ मिलकर भारतीय टीम के स्कोर को तेजी के साथ बड़े स्कोर तक ले जा रहे थे, दोनों ही बल्लेबाजों ने जबरदस्त शतकीय पारियां खेली.

लेकिन जब विराट कोहली टीम के स्कोर 225 रनों पर आउट हो गए तो इसके बाद भारतीय टीम को अचानक से लगातार अंतराल में एक के बाद एक पांच झटके लग गए. लेकिन इसके बाद धोनी ने युवा बल्लेबाज मनीष पांडे के साथ मिलकर अंतिम ओवर तक ले गए. भारतीय टीम आखिरी ओवर में पहुंची, जब धोनी और मनीष पांडे दोनों ही अपने-अपने अर्धशतक के नजदीक खड़े थे.


आखिरी ओवर की पहली गेंद पर धोनी ने चौका लगाकर अपने स्कोर को 47 रनों पर पहुंचा दिया. जिसके बाद अगली गेंद पर धोनी ने सिंगल निकाल कर मनीष पांडे को स्ट्राइक दे दी. तीसरी गेंद पर मनीष पांडे ने दो रन लिए और 48 के स्कोर पर पहुंचे. अगली गेंद पर मनीष ने सिंगल लेकर धोनी को स्ट्राइक दे दी, लेकिन धोनी ने यहां बड़प्पन दिखाते हुए अपने पचासे की परवाह नहीं करते हुए मनीष पांडे को स्ट्राइक दे दी.

जिसके बाद धोनी ने अंतिम गेंद पर मनीष पांडे को अपना अर्धशतक पूरा करने का इशारा किया और आखिरी गेंद पर मनीष ने एक रन के साथ ही अर्धशतक पूरा किया. इस तरह से धोनी ने मैदान में युवा खिलाड़ी के लिए अपने अर्धशतक का त्याग किया.
SHARE

0 comments: